सरकारी नौकरी को लेकर हमें एक अलग जुनून देखने को मिलता है हिंदुस्तान के युवाओं में। लेकिन आज हम लोग आपको उन अभिनेता के बारे में बताएंगे जिन्होंने अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी फिल्म इंडस्ट्री में आने के लिए। हालांकि उनका यह फैसला बिल्कुल सही साबित हुआ और आज उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में गजब की कामयाबी हासिल की है।

1.देव आनंद


90 के दशक के दिग्गज बॉलीवुड अभिनेता देव आनंद जोकि अपने दमदार अभिनय और हैंडसम लुक के लिए जाने जाते थे। हिंदी सिनेमा में आने से पहले वह एक सरकारी नौकरी करते थे। उन दिनों मुंबई के सेंसर बोर्ड में देव आनंद एक क्लर्क का काम करते थे। जहां उनकी तनख्वाह ₹165 प्रति माह थी। अपनी शुरुआती दिनों में जब वह मुंबई में नए नए आए थे तो वह रेलवे स्टेशन के पास एक सस्ते होटल में रहते थे।

2.राजकुमार


राजकुमार जोकि अपने दमदार डायलॉग डिलीवरी और शानदार अभिनय के लिए जाने जाते थे। वह अपने समय के बेहतरीन अभिनेताओं में से एक थे। फिल्मों में आने से पहले राजकुमार मुंबई में एक सब इंस्पेक्टर हुआ करते थे। 1952 में उन्होंने अपनी इस सरकारी नौकरी को छोड़ फिल्मों में आने का फैसला किया। आपको बता दें कि पहले उनका नाम राजकुमार नहीं बल्कि कुलभूषण पंडित था।

3.सिवाजी सतम


सिवाजी सतम जिन्हें लोकप्रियता टीवी शो सीआईडी(C.I.D) से मिली, जहां उन्होंने एसीपी प्रद्युमन का किरदार निभाया था। लोगों ने इन्हें एसीपी प्रद्युमन के रूप में काफी पसंद किया। इसके साथ ही वह नायक जैसे कुछ और फिल्मों में भी नजर आए। एक्टिंग की दुनिया में आने से पहले वह एक बैंक में कैशियर का काम करते थे। बाद में इन्होनें अपनी इस नौकरी को छोड़कर एक्टिंग में कदम रखने का निर्णय लिया।

4.अमरीश पुरी


अमरीश पुरी जिन्होंने अपनी ज्यादातर फिल्मों में विलेन का किरदार निभाया था, वह आज हमारे बीच नहीं है। फिल्मों की बात करें तो इन्होंने 400 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया है। पर यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि एक्टिंग में आने से पहले वह एक इंश्योरेंस कॉरपोरेशन में क्लर्क का काम करते थे।

5.जॉनी लीवर

जॉनी लीवर जो अपनी कॉमिक टाइमिंग के लिए और शानदार अभिनय से लोगों का मनोरंजन कर के उन्हें काफी हंसाते और उनका मनोरंजन करते हैं। इन्होंने इस मुकाम काफी मेहनत से हासिल किया हैं। इनके पिता एक फैक्ट्री में मजदूर का काम करते थे। पर जब वह फैक्ट्री बंद हुई तो यह मुंबई आ गए। इसके बाद जॉनी ने मुंबई में बस कंडक्टर की नौकरी की जहां उनकी तनख्वाह ₹26 प्रति माह थी। आखिर में जॉनी को मौका मिला अपनी काबिलियत साबित करने का।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *