उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर 12 ज्योतिर्लिंग में से एक माना जाता हैं,यहां पुरातत्व की खुदाई में कुछ खास और रोचक में डालने वाले तत्व पुरातत्व विभाग को मिले कुछ हैरत में डालने वाले अवशेष.जिसमें कुछ खास चीजें भी मिलीं. हाल ही में कुछ दिन पहले ही खुदाई के दौरान पुरातत्व विभाग के हाथ अवशेष लगे इनकी और भी गहराई से जांच की जा रही हैं।

आइए जानें उसमें क्या मिले

पुरातत्व विभाग ने मंदिर की गहराई से जांच करने के बाद एक रिपोर्ट बनाई जाएगी व इस रिपोर्ट को सांस्कृतिक मंत्रालय को सौंपी जाएगी।।

पुरातत्व विभाग की टीम ने परिसर में मिले अवशेषों के बारे में कहा कि यहां 11वीं 12वीं शताब्दी के बने मंदिरों के अवशेष मिले हैं। यह अवशेष परिसर के नीचे मिले यहां मिले अवशेष 2100साल पुराने और प्राचीन थे। ऐसा एक पुरातत्व विभाग विज्ञानी का मानना था।
इसके अलावा खुदाई में बहुत सारी चीज़ें मिली जैसे उत्कृष्ट खंभे मंदिर का गुंबद वाला हिस्सा आधार ब्लाक और नक्काशी दार रथ आदि थे।
यह देश एक प्राचीन मंदिरों में से एक है और पुरे विश्व में इसे माना जाता है.


मंदिर की उत्तर दिशा के भाग से मिले हैं, दक्षिण की ओर 4 मीटर नीचे एक दीवार भी मिली, जिसके बारे में बताया जा रहा है की इस मंदिर की दीवार हो सकती है। यह सभी अवशेष शुंग युग के पहचान पडतें हैं। ये सभी 2100 साल पुराने हो सकते है, ऐसा एक्सपर्ट के द्वारा कहा गया है।
शुंग युग में भी यह मंदिर स्थित था। खुदाई के दौरान आये हुए एक्सपर्ट रमेश यादव ने बताया कि, यहां पर मिलने वाली चीजी बहुत पुरानी जान , पड़ती हैं यदि और जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो यहां पर और खुदाई की जाने की जरूरत है। जिससे हमें हमारे धरोहरों के बारे और जानने को मिले ।

और की जानी चाहिए मंदिर की खुदाई जिससे सभी प्रकार की जानकारी हमें प्राप्त हो। तो यह थें उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर की दास्तां.

इस मंदिर पुरातत्व विदो द्वारा कयी बार खुदाई की गई जो, बहुत प्रचलित रही इससे पहले भी यहां कई प्राचीन चीजें मिली ।पिछले साल दिसंबर 2020 में भी हजारों साल पुराने शिलालेख मिले थे। इसके बाद खुदाई के कार्य को रोक दिया गया था। और आप दोबारा शुरू किया गया है।

 

यहां की खुदाई के दौरान सोमवार(MONDAY) को माता की प्रतिमा भी मिली थी, जिसकी जांच अभी चल रही है कि, यह कितने समय पुरानी है। और कहा जा रहा है की यहां और खुदाई की जाना चाहिए‌ जिससे हमें और भी जानकारी मिल सके । और हम उस बारे में और भी जानने को कुछ मिलें।।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *