बॉलीवुड के ट्रैजडी किंग दिलीप कुमार (Dilip Kumar) सभी को छोड़ कर चले गए है। लेकिन उनके किस्से इतने है जो ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। दिलीप कुमार ने न सिर्फ़ सिनेमा पर बल्कि लोगों के दिलों पर भी राज़ किया था। दिलीप कुमार के बिना हिन्दी सिनेमा का इतिहास अधूरा है। दिलीप कुमार फ़िल्म इंडस्ट्री का एक मज़बूत स्तंभ रहे है। दिलीप कुमार के जितने फ़िल्मी किस्से हैं उतने ही किस्से उनकी निजी ज़िन्दगी के भी हैं।

कई एक्ट्रेस से रहे दिलीप कुमार के सम्बंध

दिलीप कुमार ने मुगले आजम, नया दौर, शहीद, गंगा जमुना, देवदास, राम और श्याम जैसी फ़िल्मों ने उन्हें अभिनय सम्राट बनाया। मधुबाला, कामिनी कौशल, वैजयंती माली जैसी अभिनेत्रियों से उनके रोमांस के चर्चों ने ख़ूब सुर्खियाँ बटोरी। मगर शादी उन्होंने सायरा बानों से ही रचाई.

वर्ष 1996 में जब दिलीप कुमार ने ख़ुद से 22 साल छोटी सायरा बानो से शादी की तो जमाना चौक गया था। आपको बता दें कि सायरा बानों उस समय की ब्यूटी क्वीन के नाम से जानी जाती थी। इन दोनों का ही मिज़ाज़ अलग हुआ करता था। दोनों में उम्र का फ़ासला भी बहुत था। मगर जब दोनों के बीच प्यार हुआ तो बेपनाह हुआ था।

बचपन से ही दिलीप कुमार से प्यार करती थीं सायरा बानो

दिलीप और सायरा की जोड़ी को हमेशा एक यादगार जोड़ी के रूप में देखा जाता है। फ़िल्मी दुनिया का ऐसा एक पल नहीं होगा जब दोनों साथ नहीं दिखाई दिए होंगे। दिलीप कुमार और सायरा की कहानी भी एक दम फ़िल्मी है। सायरा बानों किसी और को चाहती थी मगर उन्होंने शादी दिलीप साहब से की।

वह राजेंद्र कुमार को चाहती थी, मगर जब दिलीप कुमार ने उन्हें समझाया कि शादीशुदा और दो बच्चों के पिता के चक्कर में मत पड़ो तो उन्होंने झट से पूछ लिया, क्या आप मुझसे शादी करेंगे। दिलीप कुमार को मजबूरन हाँ करनी पड़ी और 60 के दशक के मोस्ट डिमांडेड बैचलर दिलीप कुमार सायरा बानों के हमसफ़र बन गए.

एक गलती की वज़ह से कभी बाप नहीं बन सके दिलीप कुमार

शादी करने के बाद ये दोनों कई अन्य फ़िल्मों में भी साथ नज़र आए. दिलीप और सायरा की ज़िन्दगी काफ़ी खुशहाल चल रही थी। 1971 में सायरा माँ बनने वाली थी। इस समय उन्होंने अपनी फ़िल्मों की शूटिंग भी जारी रखी। फ़िल्म विक्टोरिया 203 के दौरान वह गर्भवती थी।

शूटिंग के दौरान सायरा गिर पड़ी थीं और डिलीवरी के दौरान उन्होंने एक मरे हुए बच्चे को जन्म दिया। ये वह समय था जब दिलीप कुमार फूट-फूटकर रोए थे। इस हादसे के बाद से ही सायरा कभी माँ नहीं बन पाई थी। वहीं दिलीप कुमार हमेशा से एक औलाद चाहते थे। इसी वज़ह से 1980 में उनकी ज़िन्दगी में आस्मां नाम की महिला आई.दिलीप कुमार के सम्बंध पहले से शादी शुदा महिला और तीन बच्चों की माँ आस्मां से बन गए.

इसके बाद उन्होंने 1980 में 30 मई को सायरा बानो से चोरी छिपे बंगलौर में इस महिला से शादी कर ली। बाद में सायरा बानों के विरोध के चलते दिलीप कुमार को इस महिला को तलाक देना पड़ा। कहा जाता है कि यह एक प्लान था जिसके तहत वह महिला दिलीप कुमार के निजी राज़ अपने पत्रकार पति को दे रही थी। इसके बाद दिलीप कुमार और सायरा बानों का साथ अंतिम समय तक बना रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *