आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो रोज 250 gram पत्थर निगल जाता है।और इस कारण कि वजह से लोग उन्हें पत्थर वाले बाबा भी कहते हैं.

आपने कई बार सुना होगा कि छोटे बच्चों को मिट्टी खाने की लत लग जाती है। जब भी वह परिवार की लोगों की नजर से बचकर मिट्टी खाने लगते हैं, तो वह मिट्टी खाना शुरू कर देते हैं। मिट्टी खाने से उनके पेट में कई प्रकार की परेशानियां होती है। छोटे बच्चों के मिट्टी खाने की बात अलग है। लेकिन आपसे कहा जाए कि एक समझदार और बुजुर्ग शख्स है जो रोजाना पत्थर खाता है, तो यह बात आपको बहुत सोच में डाल देगी परंतु यह सत्य है। नई दिल्ली के एक व्यक्ति को पत्थर खाने की आदत हो गई है

गांव की ही एक महिला ने उन्हें यह सलाह दी थी की पत्थर खाया करो. एक दिन उनके पेट दर्द हुआ तो वह गांव की उस बुढ़ी अम्मा के पास जिन्होंने पत्थर खाने की सलाह दी पत्थर खाने से उन्हें कुछ राहत मिली है |

80 साल का यह शख्स दिन में लगभग 250 gram stone याने की पत्थर का का जाता है यानी निगल लेता है, आखिर यह बात अचंभे में डालने वाली हैं कि वह पत्थर जाता कहां है और इससे उस शख्स के स्वास्थ्य में क्या कोई खराबी नहीं होती यह बहुत बड़ी ताज्जुब करने की बात है.

इस बुजुर्ग का नाम रामभाऊ बोडके (Rambhau Bodke) है। गांव के बहुत लोग रामभाऊ बोडके को ‘पत्थर वाले बाबा’ भी बुलाते हैं। इन्होंने बताया कि वो 1989 में मुंबई में काम करने गए थे। वहां पर उनके पेट में अचानक दर्द होने लगा। तीन साल तक इलाज कराया। इसके बावजूद पेट दर्द दूर नहीं हुआ। इसके बाद वो सतारा आ गए और यहां खेती का काम करने लगे।

गांव की बुजुर्ग महिला दी थी सलाह

यह बात उन्होंने अपने गांव के एक बुजुर्ग महिला को अपनी परेशानी बताई जिसके कारण उस महिला ने उन्हें पत्थर खाने की सलाह दी थी ,, जिससे उन्हें कुछ राहत हुई तो उन्होंने इसे रोजाना अपनाना शुरू कर दिया आज भी उनके जेब में पत्थर के छोटे-छोटे टुकड़े रखते हैं मन लगने पर खाने के लिए।।।

डॉक्टर भी इस बात को सुनकर बहुत हैरान रह गए

एक बार जब वह पेट दर्द की शिकायत में अस्पताल गए तब डायग्नोसिस में याने कि एम आर आई और सीटी स्कैन में उनके पेट में पत्थर पाए गए और डॉक्टर भी इस बात से हैरत में थे और सोच में थे की इस वजह से कोई बिमारी तो नहीं है फिलहाल रामभाऊ की स्थिति ठीक है।।।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *