कहते हैं अगर किसी काम करना ही है करके ठान लिया जाए तो सफलता लाजमी ही है ऐसी ही एक महिला के विषय में हम आज आपको इस लेख के माध्यम से कहने जा रहे हैं हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसी महिला के बारे में जिन्होंने मशरूम की खेती कि और उनका नाम मशरूम लेडी पड़ गया हैं।

जब किसी काम में सफलता मिलती हैं तो उस सफलता में क्या महिला और क्या पुरुष यह मायने नहीं रखता मायने रखता है। सफलता सबके लिए एक जैसी होती हैं।

सफलता की कहानी

वीना देवी जी ने कुछ अलग करने का ठान लिया था। जिसके माध्यम से उन्हें एक अलग पहचान मिले। वीना देवी बिहार के मुंगेर कि रहने वाली है। इन्होंने कुछ नया करने का तरीका यह निकाला कि उन्होंने अपने पलंग के नीचे मशरूम उगा दिए। कुछ समय बाद इसके उत्पादन में वृद्धि होने लगी तो इसे ही इन्होंने अपने कमाने का माध्यम समझा और इस माध्यम से यह पुरे देश में मशरूम वाली लेडी के नाम से फेमस हो गई है।

वीना देवी जी एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखती है। मशरूम की खेती कर यह अपनी समस्या का हल तो कर रही है और अपने अलावा 100 से अधिक गांवों में लोगों को मशरूम की खेती करने के लिए उत्साहित और प्रेरित कर रही है। आज इन्हीं की वजह से 1500 से अधिक परिवारों का जीवन यापन आसानी से चल रहा है। इसका श्रेय सिर्फ वीना देवी जी को ही जाता हैं।

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि वीना देवी जी के पास मशरूम की खेती के लिए ना तो ही जमीन थी और न ही कोई खेत जिसमे वो मशरूम की खेती कर सक। उन्होंने मशरूम के बीज मंगाकर बिना हिम्मत खोते हुए और बुद्धि के साथ अपना बिस्तर जिसमें वह सोती थी उसके नीचे अंधेरे में ही मशरूम लगाने का सोचा।

इनकी इस कहानी को पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद अपने ट्विटर हैंडल में साझा किया। जिससे पुरे देश को इनकी कहानी के बारे पता चला वो इनसे लोग इंस्पायर हुए। इन्होंने मशरूम की खेती के लिए अपने चौपाये के नीचे साड़ी को फैला कर रख दिया और बाद में उसमें खाद और फर्टिलाइजर आदि का इस्तेमाल कर मशरूम की खेती की ।।।,,,,

इनकी इस इनोवेटिव टैक्निक उस समय विडियो वायरल भी रहा। इसे एक विश्वविद्यालय में दिखाया गया। वीना देवी का स्कार्पियो में बैठना एक सपना था। इन्हें बिहार विश्वविद्यालय सबौर में मुख्यमंत्री द्वारा पुरस्कृत भी किया गया था।

राष्ट्रपति के द्वारा पुरस्कृत किया गया

इनको अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद जी द्वारा पुरस्कृत किया गया था। इनकी कार्य कुशलता के कारण ही उन्हें बंबर ब्लाक के पंचायत के सरपंच का पद भी संभाला था। यह उनके सशक्त नये सोच का ही नतीजा था कि इन्हें इस मुकाम को हासिल किया। महिलाओं को सशक्त किया और यह इस कारण और भी प्रसिद्ध हासिल की। ये हमारे लिए प्रेरणा का स्त्रोत हैं।

You can Also Read More Motivational Stories :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *