SUCCESS STORY OF IAS OFFICER ARATI DOGRA

किसी भी इंसान की काबिलियत उसके रूप रंग या कद या ऊंचाई आदि से नहीं कि जा सकती हैं ।बल्कि मायने रखती हैं उसके द्वारा किए गए कार्य व उस कार्य से किसी व्यक्ति को मिला हुआ लाभ प्राप्त हुआ यह मायने रखता है ।।

बहुत से लोग अपने रंग रूप व कद काठी के कारण परेशान रहते हैं उनको लगता हैं ।कि रंग गोरा और कद काठी लंबी होनी चाहिए। अच्छी बांडी होनी चाहिए,, जिससे वह समाज में कुछ कर पायेंगे। वे लोग एक तरह से खुद से नफ़रत करने लगते हैं । उन्हें आइएएस आरती डोगरा जी से सीख व प्रेरणा लेनी चाहिए।

हांईट 3 फुट 3 इंच है तो भी बनीं आईएएस

आरती डोगरा जी का कद तो छोटा था पर इरादे और हौसले एकदम बुलंद थें, इन्होंने आइएएस अफसर बनकर यह बता दिया की कद छोटा होना , से कुछ नहीं होता आपके इरादे व हौसले बुलंद होने चाहिए ,। इसलिए आज आरती डोगरा जी एक रियल लाइफ हीरो के रूप में उभरी है। जिन्होंने विपरीत परिस्थितियों से लड़ते हुए वह सब हासिल किया जो वो करना चाहतीं थीं।

देहरादून में रहतीं हैं आरती डोगरा

आरती का डोगरा का जन्म उत्तराखंड के पहाड़ों वाले शहर देहरादून में हुआ,इनका संबंध एक पढ़ें लिखे शिक्षित परिवार से हैं, पिता राजेंद्र डोगरा भारतीय सेना में कर्नल हैं,व माता कुमकुम डोगरा एक विघालय में प्रधान अध्यापिका हैं इनके जन्म के समय डाक्टरों ने माता पिता को बता दिया था, आरती के शरीर का विकास पुर्ण रूप से नहीं हो पाया है । फिर भी माता पिता ने यह निर्णय लिया कि हम अब दुसरी संतान को जन्म नहीं देंगे ।आरती का ही पूरे मन से देखभाल करेंगे वे एक अच्छी शिक्षा देंगे।

लेडी श्रीराम गर्ल कालेज से किया स्नातक

आरती की शुरुआती शिक्षा देहरादून के एक नामी इंग्लिश मीडियम स्कूल ‘ वेल्हम गर्ल्स’ में हुई आरती का शारीरिक विकास नहीं हुआ था पर उनका मानसिक विकास पुर्ण रूप से हो चुका था, आरती बचपन से ही पढ़ाई में बहुत तेज थीं,12 वी पास करने बाद उन्होंने दिल्ली के लेडी श्रीराम गर्ल कालेज में एडमिशन लेकर अर्थशास्त्र में स्नातक पुरा किया और उसके बाद आइएएस की तैयारी में जुट गई।।।

पहले ही प्रयास में पास की IAS की परीक्षा

अर्थशास्त्र में स्नातक करने के इन्होंने खुद को आइएएस की तैयारी में झोंक दिया पुरे जी जान से आइएएस की तैयारी करने लगी पुरी स्ट्रैटजी के साथ उन्होंने तैयारी की पहले प्री की तैयारी की फिर मेन्स पर फोकस किया, इनके मेहनत का ही फल था कि, पहले ही प्रयास में इनका सलेक्शन हो गया। इनकी सफलता ने पुरे परिवार को गौरवान्वित किया ।।।

आरती डोगरा के कार्यों को मिली पीएम मोदी से सराहना

आरती डोगरा की पोस्टिंग जब बीकानेर में हुई तो उन्होंने एक स्वच्छता अभियान चलाया वह था, ‘बंको बीकाणो अभियान’, इसके तहत उन्होंने गांव गांव जाकर लोगों को जागरूक किया बाहर या खुलें में शौच न करने की सलाह भी दी ,उनके इस अभियान को पी एम मोदी ने भी सराहा था। इन्होंने इस अभियान में 195 ग्राम पंचायतों को इस स्वच्छता अभियान में सम्मिलित किया, व इनका यह स्वच्छता अभियान बहुत सफल रहा इनके इस अभियान की नकल और भी जिलों ने की , आरती के इस अभियान के बाद वह देश में चर्चित हो गई।

अपने छोटे कद को नहीं बनने दिया सफलता के लिए राह का कांटा

आरती डोगरा की हाइट और शारीरिक गठन अच्छा नहीं था जितना आम भारतीयों का रहता है इस कारण इन्हें कयी बार उलाहना या मजाक का भी सामना करना पड़ा है, तो भी वह इन सब बातों को इग्नोर कर हमेशा ही मोटिवेटेड रहतीं हैं व उनके माता-पिता भी उन्हें हमेशा प्रोत्साहित करते हैं ।


लेकिन वह ऐसे लोगों को सबक भी सिखाना चाहतीं थीं। उन्होंने इस संकीर्ण मानसिकता रखने वालों को अपने मेहनत और लगन से आइएएस अधिकारी बनकर उनके मुंह में ताले जड़ दिए और समाज में यह उदाहरण पेश किया कि आपका शारीरिक गठन आपका गोरा या काला रंग आपको सफलता नहीं दिला सकता है,ये तो आपकी मेहनत का ही फल होता हैं जो आपको आगे बढ़ने की प्रेरणा देता हैं ।

इस प्रकार आरती डोगरा जी आज देश की महिलाओं व उन युवा छात्रों के लिए एक प्रेरणा हैं जिनको वे अपना रोल मॉडल मान सकते हैं ।।‌। व आरती डोगरा जी से हमें परेशानियों का डटकर सामना करना चाहिए यह प्रेरणा दी ।

“आदमी अपने कद से नहीं बल्कि पद से ऊंचा होता हैं।।”

One thought on “IAS Arti Dogra- कद 3 फ़ीट 3 इंच पर हौसला आसमान से ऊँचा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *