दक्षिण अफ्रीका  के लिंपोपो प्रांत के लोगों का ऐसा मानना है कि शुरू से ही यहां की रानियों के पास कई असीम ताकतें हैं, और इसी के जरिए रानी बारिश पर अपना नियंत्रण कर सकती हैं।

क्या है कि Rain Queen की कहानी ?

दक्षिण अफ्रीका में जिम्बाब्वे की सीमा से लगा एक शहर लिंपोपो बेहद खास है I यहां एक आदिवासी समुदाय की होने वाली रानी  Masalanabo Modjadji के पास  बारिश  पर नियंत्रण की शक्ति होने की बात की जाती है। लिंपोपो अफ्रीका का इकलौता ऐसा प्रांत है, जहां रानियां शासन करती है जिनके पास बारिश कराने और रोकने की ताकत है I इस युवती को Rain Queen भी कहा जाता है I

class=”wp-bl>

जिस प्रकार हमारे हिंदू धर्म में बारिश के देवता इंद्र को माना जाता है,उसी प्रकार दक्षिण अफ्रीका के लिंपोपो प्रांत में एक आदिवासी समुदाय की होने वाली रानी को Rain Queen के नाम से जाना जाता है। यहां के लोगों का मानना है कि होने वाली रानी Masalanabo Modjadji के पास बारिश पर नियंत्रण की शक्ति है I

लिंपोपो अफ्रीका का अकेला ऐसा प्रांत है, जहां रानियों का शासन चलता है I Masalanabo Modjadji साल 2023 में इस प्रांत की सातवीं रानी बनेंगी I प्रांत का पक्का यकीन है कि इन रानियों के पास आसमानी ताकतें हैं, खासकर ये बारिश होने पर कंट्रोल कर पाती हैं I होने वाली रानी Masalanabo अभी 16 साल की हैं और 2023 में जैसे ही वे 18 की होंगी, प्रांत को चलाने का जिम्मा उनके पास आ जाएगा I फिलहाल कम उम्र होने के कारण रानी के भाई Prince Mpapatla अनौपचारिक तौर पर सत्ता संभाल रहे हैं, उन्हें प्रजा रीजेंट पुकारती है I

क्यों करना पड़ा स्त्री को शासन?

आज से 400 साल पहले यहां के आदिवासी जिम्बाब्वे से आए थे I तब पुरुष ही शासन किया करते थे और कुछ भी हासिल करने के लिए आपस में लड़ाइयां करते ,इस तरह से काफी कत्लेआम मचा करता था I आखिरी पुरुष राजा के सपने में कोई ईश्वरीय ताकत आई, जिसने उसे स्त्रियों को शासन सौंपने के लिए कहा I इसके बाद राजा की बड़ी बेटी ने राजकाज संभाला I

उस पहली रानी के आते ही प्रांत के हालात सुधरने लगे और लड़ाइयां खत्म हो गईं I यहां तक कि दूसरे प्रांतों के राजा रानी के पास बारिश करवाने की गुजारिश लेकर आने लगे क्योंकि प्रांत के लोगों को यकीन था कि रानी पर बारिश वाले देवता की कृपा है।

हालांकि इस रानी की जिंदगी आसान नहीं थी I उसे दूसरी महिलाओं से खुद को अलग साबित करना था I इसके लिए उसे तमाम तरह के तंत्र-मंत्र जपने के लिए एक बड़ा समय जंगलों में अकेले रहते हुए बिताया, वहीं से वो पुरुष साथियों को प्रजा को चलाने के लिए आदेश देती , उसने शादी भी नहीं की थी, बल्कि अपने ही परिवार के पुरुषों से संबंध बनाकर उनके जरिए बच्चों को जन्म दिया I ये ठीक वैसा ही है, जैसा आमतौर पर स्त्रियों के साथ होता आया था माना जाता है कि पहली रानी ने 1800 से 1854 तक शासन किया उसकी मौत के बाद सबसे बड़ी बेटी को शासन मिला इसी तरह से परंपरा आगे बढ़ती रही I

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *