उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की बेटी श्रीती पांडेय के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसने अपने कामकाज व व्यक्तित्व से देश, दुनिया में मान बढ़ाया है। बेटियां हर क्षेत्र में आगे हैं। श्रीती पांडेय ने पराली निर्मित प्लाइवुड व स्टील के फ्रेम पर इको फ्रेंडली भवन बनाकर इतिहास रच दिया।

श्रीती देश के लिए कुछ करना चाहती थी
महात्मा गांधी इंटर कॉलेज के प्रबंधक और समाजसेवी मंकेश्वर नाथ पांडेय की 28 वर्षीय बेटी श्रीती ने अपनी स्कूली शिक्षा गोरखपुर और दिल्ली से की है I इसके बाद उन्होंने न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय से निर्माण प्रबंधन में स्नातकोत्तर किया है वर्ष 2014 में गाजियाबाद से बीटेक करने के बाद न्यूयार्क यूनिवर्सिटी से कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट में मास्टर की डिग्री हासिल की। इसके बाद उनकी नौकरी एक अमेरिकी कंपनी में लग गई। श्रीती कुछ नया करना चाहती थीं, इसलिए नौकरी में मन नहीं लगा और अपने वतन लौट आईं।

आदिवासियों के बीच गुजारा समय
गोरखपुर की रहने वाली श्रीति पांडे पिछले कई पीढ़ियों से परिवार के विभिन्न सदस्यों द्वारा किए जा रहे सामाजिक कार्यों से प्रेरणा लेकर श्रीति खंडवा में आदिवासियों के बीच जब समय गुजार रही थी I यहां पराली जलता देख इसके इस्तेमाल का गुर सीखने वह चेक रिपब्लिक चली गईl वहां पराली और धान की भूसी और गन्ने के अपशिष्ट से बोर्ड बनाने की ट्रेनिंग लेने के बाद श्रीति ने स्ट्रक्चर को लिमिटेड कंपनी बनाई I जो विभिन्न निर्माणकार्यो में आम जन को सहूलियत के साथ पैसा भी बचाने का कार्य करेगाI

इको फ्रैंडली चैनल पर कार्य शुरू किया
श्रीती भवन निर्माण के लिए पराली और धान की भूसी से जो पैनल तैयार कर रही हैं, वह इको फ्रैंडली तो है ही, कार्बन डाई ऑक्साइड से मुक्त भी है। श्रीती के काम को यूपी के साथ ही बिहार, पंजाब और हरियाणा सरकार से खूब वाहवाही मिली है। वह इन सरकारों के साथ मिलकर काम भी कर रहीं हैं। अपनी सफलता पर श्रीती का कहना है कि पराली देश के 40 फीसदी हिस्से में बड़ी समस्या है। परियोजना को सरकारों और संस्थाओं का समर्थन मिला तो देश में इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में वरदान साबित हो सकता है।

कुछ ही समय में तैयार किया कोविड अस्पताल
श्रीती ने कोरोना काल में महज 80 दिन में ही पटना में पराली और धान की भूसी के पैनल से इको फ्रैंडली कोविड अस्पताल तैयार कर दिया। इको फ्रेंडली अस्पताल की लागत सिर्फ सवा करोड़ रुपये आई। पहला निर्माण उन्होंने एमजी इंटर कॉलेज में तीसरे तल पर 6000 वर्ग फुट में किया। जिनका तापमान अन्य कमरों के मुकाबले पांच डिग्री सेल्सियस कम पाया गया।

फोर्ब्स सूची 2021 शीर्ष 30 सूची में शामिल
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर ने एक और बड़ी उपलब्धि हासिल की हैI गोरखपुर निवासी 29 वर्षीय श्रीती पांडे को अमेरिका की प्रतिष्ठित पत्रिका फोर्ब्स ने एशिया के टॉप 30 मेधावी व्यक्तित्व में शामिल किया हैI 30 साल से कम उम्र की श्रेणी में श्रीती को इंडस्ट्री, मैन्यूफैक्चरिंग एवं पावर क्षेत्र में बेहतर काम करने के लिए यह सम्मान मिला है I

“मिलेगी परिंदों को मंजिल, ये उनके पर बोलते हैं, रहते हैं कुछ लोग खामोश, लेकिन उनके हुनर बोलते हैं।” ये पंक्तियां शहर की बेटी श्रीती पांडेय पर सटीक बैठती हैं। जिन्होंने महज 80 दिन में ही पटना के डीएफआई अस्पताल परिसर में 7000 वर्ग फीट में नया कोविड अस्पताल तैयार कर दिया, जो लोगों के लिए वरदान साबित हो रहा है।

अस्पताल लोगों को दे रहा है नई जिंदगी
कोरोना संकट के बीच गोरखपुर की रहने वाली श्रिति पांडेय द्वारा बिहार में बनाया गया कोविड अस्पताल कई लोगों को नई जिंदगी दे रहा हैI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *