दोस्तों आज हम आपको आईएएस अभिषेक तिवारी के बारे में बताने जा रहे हैं।आइए जानते हैं वह कैसे बने आइएएस और किस कठिनाई से उन्होंने इस कठिन और मुश्किल परीक्षा को पास कर यह पद हासिल किया।।। आज सभी बोर्ड टापर का सपना आइएएस क्रैक करने का बन गया हैं।।

आप इस बात से ही यह अंदाजा लगा सकते हैं कि , बिहार बोर्ड में टाप करने वाला हर स्टूडेंट का सपना आइएएस बनना ही होता हैं. और हर साल UPSC में भाग लेने वाले कैंडिडेट्स का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है. इस बार जून में सिविल सेवा प्रीलिम्स की परीक्षा होने जा रही हैं। सैकड़ों कोचिंग सेंटर भी UPSC की पढ़ाई के लिए लाखों फीस उठा रहे हैं

इन सब के बीच हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो सेल्फ स्टडी से बिना किसी कोचिंग किए, इन्होंने सेल्फ स्टडी के दम पर 10 साल मेहनत करने के बाद यह परीक्षा दिलाई और सफल हुए । इनकी दिली इच्छा थी कि यह डिफेंस में जाएं, लेकिन इसे पुरा न कर सके। इनकी पढ़ाई आर्मी स्कूल में ही हुई थी। इसलिए इनकी डिफेंस में जाने की इच्छा थी,

इन्होंने युपीएससी क्लियर करने के लिए दशकों तक पढ़ाई की मतलब 10 साल तक तैयारी की साल 2011 से इन्होंने ने तैयारियां शुरू की थी,युपीएस सी के तीसरे प्रयास में इन्होंने सफलता प्राप्त की 2019 में। इंटरमीडिएट के बाद उनका रुझान डिफेंस में करियर बनाने का था लेकिन उन्हें वहां सफलता नहीं मिली और फिर वह यूपीएससी में आ गए।

मिलिट्री स्कूल में हुई शुरुआती शिक्षा

इनकी शुरूआती शिक्षा बेंगलुरु के मिलिट्री स्कूल में हुई , यह पढ़ाई में शुरू से अच्छे थे और मेहनती थे इनकी दिली इच्छा इंटरमीडिएट के बाद डिफेंस में जाने की थी साथ ही ग्रेजुएशन भी शुरू किया कई कोशिश के बाद भी इनका एनडीए में सिलैक्शन नहीं हो पाया . तब इन्होंने आइएएस की परीक्षा की तैयारी शुरू की 2011मे की और 2019 में उन्होंने युपीएस सी क्लियर कर आइएएस बने और इनके सफर की समाप्ति हुई ।

अभिषेक की तैयारी का समय

अभिषेक ने जब पहली बार यूपीएससी का एग्जाम दिया तो उन्हें असफलता मिली। इसके बाद उन्होंने बेहतर तैयारी के साथ दूसरा प्रयास किया। इसमें वह इंटरव्यू राउंड तक पहुंच पाए लेकिन फाइनल लिस्ट में उनका नाम नहीं आया। इससे वे निराश नहीं हुए बल्किऔर उनका कॉन्फिडेंस बढ़ गया। उन्होंने तीसरे प्रयास में अपनी गलतियों को सुधारा और बेहतर परफॉर्म करके सफलता प्राप्त की। इस तरह उनका आईएएस अफसर बनने का dream पूरा हो पाया। ।।

दुसरे कैंडिडेट्स को दी सलाह

इन्होंने दुसरे कैंडिडेट्स को सलाह देते हुए कहा कि ।। आपको यूपीएससी के लिए कुछ चुनिंदा किताबों से ही करना चाहिए वह उसका लगातार रिवाईव और रिविजन भी करना चाहिए इससे आपकि पकड़ और भी मजबूत होगी उस सब्जेक्ट में कई दफा हम गलतियां कर जाते हैं . यही छोटी गलतियां हमें नही करनी चाहिए जिससे की हम यूपीएससी में चूक जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *