मध्यप्रदेश के नीमच से जुड़ी दो प्यार करने वाले आकाश और भारती की रियल लाइफ की कहानी आपको अंदर तक झिंझोड़ देगी. आकाश और भारती कि जिंदगी एक ऐसे मोड़ से गुजरी है. जिसे सुनकर उनकी इस रियल लाइफ कहानी की जितनी मिसाल दी जाए वह कम है. आकाश और भारती लंबे संघर्ष के बाद वैलेंटाइन डे के अवसर पर शादी के बंधन में बंधे .

आकाश और भारती एक ऐसे समुदाय से बिलॉन्ग करते हैं. जो की वेश्यावृत्ति के लिए प्रचलित हो गया था. यह समुदाय मध्यप्रदेश के नीमच मंदसौर और रतलाम जिलों के लगभग 68 गांवों में फैला हुआ है.

यह समुदाय बांछड़ा समुदाय के नाम से जाना जाता है. इस समुदाय के लगभग 250 डेरे है. इस समाज में खुलेआम वेश्यावृत्ति को बढ़ावा देने वाले और कोई नहीं बल्कि इन बच्चियों के मां-बाप होते थे.

आपने एक कहावत तो सुनी होगी कि कीचड़ में ही कमल खिलता है. आकाश जो कि इसी समुदाय का लड़का था. उसे अपने साथ पली-बढ़ी लड़कियों के साथ होने वाले व्यापार को देख उसे रहा नहीं जाता था.आखिर उसने लड़कियों को इस व्यापार से बचाने का फैसला कर ही लिया.

आकाश ने अपनी समाज की लड़कियों को बचाने के लिए ‘फ्रीडम फर्म’ नाम के एनजीओ से मदद ली. और उनकी मदद से उन्होंने समाज की काफी लड़कियों को इस दरिंदगी से बाहर निकाला. और आकाश को अपने मिशन मैं पहली सफलता मिली.

आकाश तीन साल पहले लड़कियों को बचाने के लिए एक मिशन पर काम कर रहा था. इसी दौरान उसकी मुलाकात भारती नाम की एक लड़की से हुई. वह लड़की आगे पढ़ना चाहती थी लेकिन उसकी मां भी उसे इस देह व्यापार में धकेलना चाहती थी. आकाश ने किसी तरह कोशिश कर भारती को इस दरिंदगी से बाहर निकालकर हॉस्टल में भर्ती कराया

भारती की मां ने उसे हॉस्टल में नहीं नहीं रहने दिया वह उसे अपने डेरे पर ले आई. जब आकाश को इस बात का पता लगा तो पुलिस की मदद से उन्होंने इस डेरे पर छापा तो भारती की मां को पांच लड़कियों से देह व्यापार कराते हुए पकड़ लिया गया. NGO के जरिए भारती की रहने की व्यवस्था नीमच के आश्रम में कराई गई. और वही उसकी पढ़ाई की व्यवस्था की गई.

आकाश ने अपने इस मिशन के दौरान अपनी पढ़ाई को भी जारी रखा. उसने एलएलबी करने का फैसला किया. 22 साल का आकाश इस वक्त अपनी 6 सेमेस्टर पास कर चुका है. उधर भारती भी 21 साल की हो चुकी थी .अब दोनों ने मिलकर बांछड़ा समाज के ऊपर लगे इस दाग को मिटाने का फैसला किया. साथ ही दोनों ने वैलेंटाइन डे के दिन शादी के बंधन में बनने का फैसला कर लिया.

नीमच जिले के एसपी मनोज सिंह ने इनकी शादी के दिन आकर बधाई दी. उनके द्वारा किए जा रहे इस कार्य के लिए उनका साथ देने का आश्वासन दिया. एसपी ने बताया कि पुलिस के द्वारा इस समुदाय के लोगों की पूरी मदद की जाएगी. इस बुराई को मिटाने के लिए पूरा प्रयास किया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *