अच्छे स्वास्थ्य के लिए अच्छी नींद लेना बहुत आवश्यक होता है। रात को सही प्रकार से नींद न आने पर हमारे पूरे दिन की गतिविधियों पर प्रभाव पड़ता है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कभी काम के दबाव के चलते तो कभी तनाव के कारण नींद न आने की समस्या आम हो गई है.

कई बार लोग रात को नींद के लिए दवाओं का सहारा भी लेने लगते हैं लेकिन यह आपके स्वास्थय पर बुरा प्रभाव डलती हैं। इसके लिए आपको संतुलित दिनचर्या और खान-पान अच्छा रखने की आवश्यकता होती है लेकिन कई बार नींद में रात को बार-बार बाधा पड़ने के कई और कारण भी हो सकते हैं।

वास्तु में नींद न आने और बार-बार नींद में बाधा आने के पीछे कई कारण बताए गए हैं। यदि आप वास्तु में बताई गई इन बातों को ध्यान में रखते हैं तो नींद न आने की सममस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

पलंग के नीचे बेवजह का सामान

कई बार यदि कुछ सामान ज्यादा हो जाए तो पलंग के नीचे खसका देते हैं, लेकिन वास्तु के अनुसार पलंग के नीचे भूलकर भी बिन वजह का सामान नहीं रखना चाहिए। इससे नकारात्मक ऊर्जा बढ़ने लगत है जिसके कारण रात में बार-बार नींद में बाधा पड़ने की समस्या हो सकती है। इसके साथ ही अपना बिस्तर या फिर पलंग ठीक दरवाजे के सामने नहीं लगाना चाहिए। इससे भी आपकी नींद में रुकावट आती है।

शयनकक्ष में इलेक्ट्रॉनिक सामानों को नहीं रखना चाहिए

कयी बार हम अपने शयन कक्ष में फ्रीज इनवटर आदि व अन्य मशीनों को घर में जगह की कमी होने के कारण फ्रीज या किसी मशीनी चीज को अपने शयन कक्ष में रखने की गलती कर देते हैं रात्रि में उसकी आवाज के कारण हमारी नींद में खलल होती हैं , तो इन जगहों मशीनी इलेक्ट्रॉनिक आदि आयटम को वहां से हटा दें आपके नींद में खलल नहीं होगी वह अनिद्रा की शिकायत दूर होगी।।।।

शयनकक्ष में लोहे का पलंग नहीं होना चाहिए

वास्तु शास्त्र के अनुसार शयन कक्ष में पलंग लोहे का नहीं होना चाहिए जिससे किसी भी प्रकार की नकारात्मकता से दूर रहा जा सकता है पलंग लकड़ी का होना ही आवश्यक हैं व पलंग को गोलाकार तिकोनाकार आदि Shep में नहीं होना चाहिए जिससे हमें मानसिक अशांति की शिकार हो जाते हैं और पलंग को आयताकार ही होना आवश्यक हैं क्योंकि इस से आपका शरीर एक सिध में ही रहता जिससे आपके गर्दन या कमर पर जोर नहीं आएगा।

वास्तु शास्त्र के अनुसार शयनकक्ष में बिस्तर के सामने या फिर पीछे की ओर आईना या शीशा नहीं लगाना चाहिए इसके साथ ही शयन कक्ष में फालतू के बिजली नहीं होने चाहिए या कोई उपकरण अगर खराब हो जाये तो उसे तुरंत ही ठीक करवाये जिससे कोई आवाज न निकले व इसके अलावा कोई कांटे दार पौधे को या शो पीस को शयनकक्ष में नहीं रहना चाहिए ।

इस प्रकार के कुछ वास्तु टिप्स अपनाकर हम स्लिपिंग डिस आर्डर को दूर रख सकते हैं।।।। जिससे हमें अनिद्रा की प्राब्लम से छुटकारा मिल सकता है।।।

One thought on “वास्तु शास्त्र के अनुसार शयन कक्ष में यह सब वस्तुओं का होना -मानसिक अशांति और अनिद्रा का कारक होता हैं”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *