दोस्तों दुनिया में ऐसी बहुत सी जगह है जो अपने अंदर बहुत से राज छुपाए हुए हैं. अगर आप इन जगहों पर जाते हो. तो विश्वास नहीं कर पाओगे कि ऐसा भी हो सकता है. आज हम आपको एक ऐसे पर्वत के बारे में बताने जा रहे हैं.

जो माउंट एवरेस्ट से भी कम ऊंचाई पर स्थित है. परंतु आज तक कोई इस पर्वत पर नहीं पहुंच पाया है. कई लोगों ने इस पर चढ़ने की कोशिश की परंतु कोई भी इस पर्वत पर पहुंच पाया है.

हम बात कर रहे हैं. कैलाश पर्वत की जो कि भारत में स्थित है. और इसकी ऊंचाई 6638 मीटर है. इस पर्वत से 2000 मीटर अधिक ऊंचाई पर स्थित माउंट एवरेस्ट को अभी तक 7000 से ज्यादा लोग चढ़ चुके हैं. जबकि इसकी ऊंचाई 8848 मीटर है.जो कैलाश पर्वत से काफी जाता है फिर भी कैलाश पर्वत पर आज तक कोई भी व्यक्ति नहीं पहुंच पाया है. और आज तक कोई भी व्यक्ति इस पर्वत के रहस्य के बारे में नई जान पाया है.

कैलाश पर्वत पर नहीं चढ़ पाने के पीछे कई रहस्य प्रचलित है. कुछ लोगों का मानना है कि कैलाश पर्वत पर भगवान शिव का वास है. इसी कारण यहां कोई जीवित इंसान नहीं पहुंच पाया है. पौराणिक रहस्य के अनुसार कैलाश पर्वत पर वही व्यक्ति चढ़ सकता है जिसने आज तक कोई भी
पाप नहीं किया हो. कुछ ग्रंथों का मानना है कि कैलाश पर्वत की ओर चढ़ने पर व्यक्ति दिशाहीन हो जाता है. इसी वजह से आज तक कैलाश पर्वत पर कोई भी व्यक्ति नहीं चढ़ पाया.

कैलाश पर्वत की ऊंचाई 6600 मीटर से भी अधिक है यह पर्वत अभी के समय में चीन में मौजूद हैं.हिंदू पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कैलाश पर्वत पर भगवान शिव का वास है. केवल हिंदू धर्म ही नहीं बल्कि बौद्ध धर्म और जैन धर्म के अनुयाई भी इस पर्वत को पवित्र मानते हैं.कहा जाता है कि इस पर्वत पर अलौकिक शक्तियों का वास है. कहा जाता है कि कैलाश पर्वत ऐसी जगह है जहां धरती और आकाश का मिलन होता है.रूस के वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया कि इस पर्वत के चारों तरफ अलौकिक शक्तियां प्रवाह करती हैं.

धरती के उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव है के बीच में स्थित हिमालय पर्वत पर स्थित है कैलाश पर्वत इसलिए इसको धरती का केंद्र भी माना जाता है. हिंदू धर्म के अनुसार कैलाश पर्वत बहुत ही पवित्र स्थान माना गया है.कहा जाता है कि यहां आज भी भगवान शिव वास करते हैं. इसी वजह से इस पर्वत पर किसी इंसान का पहुंच पाना बहुत ही मुश्किल है.

19 वीं सदी में कुछ लोगों ने इस पर चढ़ने की कोशिश की थी. वह रास्ते में ही गायब हो गए क्योंकि आज तक उन लोगों का पता नहीं लग पाया है. क्योंकि जैसे-जैसे कैलाश पर्वत के नजदीक जाते हैं वैसे ही व्यक्ति दिशाहीन हो जाते हैं. और रास्ता भटक जाते हैं. इसी वजह से कैलाश पर्वत पर चढ़ने की कोशिश करने वाला कोई भी व्यक्ति वापस नहीं लौट पाया. इसका कारण आज तक कोई भी वैज्ञानिक नहीं ढूंढ पाया है. इसलिए सरकार के द्वारा कैलाश पर्वत की चढ़ाई पर रोक लगाई हुई है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *