श्रृंगारा नौ रसों में से एक है, जिसका आमतौर पर कामुक प्रेम, रोमांटिक प्रेम, या आकर्षण या सौंदर्य के रूप में अनुवाद किया जाता है। आजकल के फैशन के दौर में श्रृंगार करना बेहद जरूरी सा हो गया।

श्रृंगार करते समय पत्नी को कभी भी दक्षिण दिशा की ओर चेहरा करके सिंदूर नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करने से पति की उम्र कम होती हैं। इसके साथ ही पत्नी को अपने श्रृंगार में टूटी-फूटी वस्तुओं का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

यह भी उनके पति के लिए अशुभ साबित हो सकती है। अगर आप भी अपने पति से बेहद प्यार करती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं, तो इन बातों का खास ख्याल रखें।

महिलाओं के श्रृंगार में सिंदूर के बहुत मायने होते हैं। यह माना है कि जो पत्नियां अपनी मांग में सिंदूर भरती है तो उनके पति की लंबी उम्र होती है। लेकिन क्या आप जानती है कि महिलाओं को श्रृंगार करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए, वर्ना यह उनके पति के लिए अशुभ हो सकता है।

श्रृंगारा नौ रसों में से एक है, जिसका आमतौर पर कामुक प्रेम, रोमांटिक प्रेम, या आकर्षण या सौंदर्य के रूप में अनुवाद किया जाता है। श्रृंगार करना किस महिला को पसंद नहीं होता।

इसे जहां एक शादीशुदा महिला के सुहागिन होने की निशानी माना जाता है, वहीं आजकल के फैशन के दौर में श्रृंगार करना बेहद जरूरी सा हो गया। ऐसा इसलिए कि हर महिला खुद को खूबसूरत और स्टाइलिश दिखाने में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती। वह सोचती हैं कि मैं कितना श्रृंगार कर लूं कि सबसे ज्यादा सुंदर लगूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *